जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी भजन लिरिक्स

जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी, देख तमाशा लकड़ी का, क्या जीवन क्या मरण कबीरा, खेल रचाया लकड़ी का।। जिसमे तेरा जनम हुआ,  वो पलंग...

कृष्ण भजन लिरिक्स

फ़िल्मी तर्ज भजन

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।