ब्रम्ह सरोवर घाट घाट पर तुलसी जोवे बाट खेतेश्वर आवोनी

ब्रम्ह सरोवर घाट घाट पर,
तुलसी जोवे बाट,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी।।



वैकुण्ठ धाम दाता पाट पुरावु,

पाट पुरावु,
मखमल रा गादी तकीया घनेरा लगावु,
घनेरा लगावु,
हरी हरी है घास,
घास पर महल पुरायो पाट,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी।।



मोर पंख सु चंवर ढुलावु,

चंवर ढुलावु,
चरणों री सेवा स्वामी मै तो करावु,
मै तो करावु,
फूल बिछाया छांट,
छांट मै पुरीयो भक्ति रो पाट,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी।।



खीर खांड रा दाता भोजन बनावु,

भोजन बनावु,
प्रेम भाव सु भोग लगावु,
भोग लगावु,
माखन मिश्री भात,
भात रा ठंडा जल री माट,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी।।



तुलसारामजी राह निहारे,

राह निहारें,
ओ दास जोरावर थारे द्वार है आवे,
द्वारे है आवे,
मै तो जोवा बाट,
बाट है महिमा अपरंपार,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी।।



ब्रम्ह सरोवर घाट घाट पर,

तुलसी जोवे बाट,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी,
खेतेश्वर आवोनी बापजी आवोनी।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें