भूल आई म्हारा कान्हा जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी लिरिक्स

भूल आई म्हारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी,
ओढ़नी जी ओढ़नी जी,
ओढ़नी जी कान्हा ओढ़नी,
भूल्याई मारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी।।



हे मारा पीर की ओढ़नी जी,

कान्हा ओडु बार त्यौहार,
बेगा ल्यावों सावरा रे,
आओ कृष्ण मुरार,
भूल्याई मारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी।।



हे काली काली कामनी जी,

लटके घेर घूमेर,
केसरिया सा फुंधा लटके जी,
के चारों मेर,
भूल्याई मारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी।।



मैं जाती की गुजरी कान्हा,

तू जाती को अहीर,
थारो मारो हेत मिल्यो रे,
पूरा जन्म को शिर,
भूल्याई मारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी।।



हे चंद्रसखी री विनती थे,

सुनजो सिरजनहार,
रामफूल गान सुनावे,
थे आओ कृष्ण मुरार,
भूल्याई मारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी।।



भूल आई म्हारा कान्हा,

जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी,
ओढ़नी जी ओढ़नी जी,
ओढ़नी जी कान्हा ओढ़नी,
भूल्याई मारा कान्हा,
जमुना किनारे म्हारी ओढ़नी।।

गायक – रामफूल धाकड़।
प्रेषक – नरेश धाकड़।
9214511673


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

थे ही गाला रा राजन भोमिया हो थे ही गढा रा उमराविया जी

थे ही गाला रा राजन भोमिया हो थे ही गढा रा उमराविया जी

थे ही गाला रा राजन भोमिया हो, थे ही गढा रा उमराविया जी, हे हे थाने तो मनाऊ मैया शारदा, हे हे गणपत लागू थोरे पाव मैं जियो।। जड़ियोडा चोक…

हंसला उड़ जा हंस वाली चाल लिरिक्स

हंसला उड़ जा हंस वाली चाल लिरिक्स

हंसला उड़ जा, उड़ जा हंस वाली चाल, बुगलां री चाल्यां हंसला छोड़ दे।। हंसला चुगले चुगले, मोतीड़ां रो चूंण, मच्छीयां नें खाणी हंसा छोड़ दे।। हंसला बोलो बोलो, कोयल…

गुरु मिलिया आत्म राम प्रकाश माली भजन लिरिक्स

गुरु मिलिया आत्म राम प्रकाश माली भजन लिरिक्स

गुरु मिलिया आत्म राम, श्लोक – सतगुरु ऐसा कीजिए, दुखे दुखावे नाही, अरे पान फूल तोड़े नाही, वे रेवे बगीचा माये।। म्हारा गुरूजी ऐसा, फूल गुलाबी जैसा ओ, म्हारे घर…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे