प्रथम पेज राजस्थानी भजन भक्ति जोर जबर मेरा भाई भक्ति करो भरम मत राखो

भक्ति जोर जबर मेरा भाई भक्ति करो भरम मत राखो

भक्ति जोर जबर मेरा भाई,
भक्ति करो भरम मत राखो,
भेला रमे रघुराई।।



भक्ति किदी हरिचंद राजा,

कंवर तारा रानी,
भक्ति के काज प्राणी तीनो बिकीया,
वाने शर्म नही आई,
भक्ति जोर जबर मेरा भाईं।।



भक्ति किदी मोरध्वज राजा,

शिर पर आरा चलाई,
भक्ति के काज पुत्र ने चीरियों,
वाने दया नही आई,
भक्ति जोर जबर मेरा भाईं।।



भक्ति किदी पांचों पांडव,
छटी कुंता माई,
भक्ति के काज आंबो लगायो,
पहर में धेनु छुंकाई,
भक्ति जोर जबर मेरा भाईं।।



पदम् गुरु परवाणी मिलिया,

लाडू जी सेन बताई,
गुर्जर गरीबी में कनीराम जी बोले,
गांव गोरख्या माई,
भक्ति जोर जबर मेरा भाईं।।



भक्ति जोर जबर मेरा भाई,

भक्ति करो भरम मत राखो,
भेला रमे रघुराई।।

गायक / प्रेषक – चम्पालाल प्रजापति।
मालासेरी डूँगरी 89479-15979


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।