प्रथम पेज कृष्ण भजन बन बैठा बंजारा तेरे प्यार में भजन लिरिक्स

बन बैठा बंजारा तेरे प्यार में भजन लिरिक्स

बन बैठा बंजारा तेरे प्यार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में,
तेरे प्यार में, तेरे दरबार में,
तेरे प्यार में, तेरे दरबार में,
हाँ तेरे प्यार में,
बन बैंठा बंजारा तेरे प्यार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में।।

तर्ज – तूने मुझे बुलाया शेरावालिये।



चिंतन तेरा करता रहूं मैं,

वंदन तेरा करता रहूं मैं,
नाम जपूँ मैं हरपल तेरा,
नाम जपूँ मैं हरपल तेरा,
क्या रखा है झूठें इस संसार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में,
बन बैंठा बंजारा तेरे प्यार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में।।



जिस दर पे भी मैंने शीश झुकाया,

एक पिता सा प्यार है पाया,
समझ ना पाया तेरी माया,
समझ ना पाया तेरी माया,
हर कोई अपना लगता इस परिवार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में,
बन बैंठा बंजारा तेरे प्यार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में।।



बंजारा बनकर है रहना,

तेरे ‘प्रमोद’ का है ये कहना,
श्याम के संग भावों में बहना,
श्याम के संग भावों में बहना,
कैसे रहेगी नैया अब मझधार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में,
बन बैंठा बंजारा तेरे प्यार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में।।



बन बैठा बंजारा तेरे प्यार में,

सबकुछ मुझे मिला है दरबार में,
तेरे प्यार में, तेरे दरबार में,
तेरे प्यार में, तेरे दरबार में,
हाँ तेरे प्यार में,
बन बैंठा बंजारा तेरे प्यार में,
सबकुछ मुझे मिला है दरबार में।।

स्वर – प्रमोद त्रिपाठी जी।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।