बड़े बलशाली है बाबा बजरंग बली भजन लिरिक्स

जड़ से पहाड़ों को,
डाले उखाड़,
थर्राते त्रिभुवन,
जब मारे दहाड़,
बड़े बलशाली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।

तर्ज – आने से उसके।



भूत प्रेत कांपे,
नाम
सुनते महावीर का जब,
दम दानवो के निकलते,
याद आती है रणधीर की जब,
लाल ही तन लाल बदन,
लाली भी निराली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।



दे मुद्रिका माँ सिया को,

शोक मोह सारा उनका निबारा,
फल खाये उपवन उजाड़ा,
दुष्ट अक्षय पटक करके मारा,
लंका जला अंजनी लला,
पूँछ जल में बुझा ली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।



संजीवनी संग पूरा,

द्रोणागिरी उठाकर के लाये,
लंका से ला बैध जी को,
प्राण भ्रात लखन के बचाये,
सियाराम मन में देख लो,
छाती चीर डाली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।



राम सब काम करते,

सब जियें राम के ही सहारे,
पर आपने तो है हनुमत,
काम सब राम के भी सवारे,
खाली कोई लौटा नहीं,
गर का सवाली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।



भक्त वत्सल दीनानाथ हनुमत,

दीन बंधू दया चाहता है,
चरणों का चेला ‘मयंक’ है,
कृपा भिक्षा सदा मांगता है,
सरकार के दरबार से,
कोई जाता ना खाली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।



जड़ से पहाड़ों को,

डाले उखाड़,
थर्राते त्रिभुवन,
जब मारे दहाड़,
बड़े बलशाली है,
बाबा बजरंग बली,
इनकी महिमा निराली है,
बाबा बजरंगी बली।।

Singer – Mayank Gupta


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें