अम्बे जगदम्बे आये तुम्हरी दुअरिया लिरिक्स

अम्बे जगदम्बे आये,
तुम्हरी दुअरिया।

दोहा – बाबा बाबा सब कहें,
माई कहे ना कोय,
बाबा के दरबार में,
माई करे सो होय।



अम्बे जगदम्बे आये,

तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे,
काली महाकाली,
ले लो हमरी खबरिया,
दर से ना टालना रे,
ओ माता रानी,
अम्बे जगदम्बें आये,
तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे।।

तर्ज़ – उज्जैन के राजा।



महिषासुर दानव बलशाली,

दुर्गा से बन गई,
अम्बे मां काली-2,
दुष्ट जनों को,
मैया ने मारा,
भक्तों को तारना रे,
ओ माता रानी,
अम्बे जगदम्बें आये,
तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे।।



रण में चली मां लेके दुधारी,

लट बिखराये करे,
सिंघा सवारी-2,
शुंभ निशुंभ जो,
लड़ने को आये,
रण में पछाड़ना रे,
ओ माता रानी,
अम्बे जगदम्बें आये,
तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे।।



हाथों में खप्पर,

नैनों में ज्वाला,
पहने गले में,
मुण्डों की माला-2,
क्रोध की अग्नि,
शीतल भई जब,
शिवजी का सामना रे,
ओ माता रानी,
अम्बे जगदम्बें आये,
तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे।।



‘पदम’ है मां के,

दर का भिखारी,
मैया हरो हर,
विपदा हमारी-2,
करुणामयी मां,
थोड़ी सी ममता,
झोली में डालना रे,
ओ माता रानी,
अम्बे जगदम्बें आये,
तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे।।



अम्बे जगदम्बे आए,

तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे,
काली महाकाली,
ले लो हमरी खबरिया,
दर से ना टालना रे,
ओ माता रानी,
अम्बे जगदम्बें आये,
तुम्हरी दुअरिया,
दर से ना टालना रे।।

लेखक / प्रेषक – डालचंद कुशवाह “पदम”
9727624524


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मुझे नौकर रखले दादी झुंझनू धाम में भजन लिरिक्स

मुझे नौकर रखले दादी झुंझनू धाम में भजन लिरिक्स

कुछ और नहीं मैं आया तुमसे मांगने, मुझे नौकर रखले दादी झुंझनू धाम में, तू लगा मुझे तेरी सेवा के काम में, झुंझनू धाम में, झुंझनू धाम में, कुछ और…

मेरी मैया ने ओढ़ी लाल चुनरी भजन लिरिक्स

मेरी मैया ने ओढ़ी लाल चुनरी भजन लिरिक्स

मेरी मैया ने ओढ़ी लाल चुनरी, हीरो मोती जड़ी गोटेदार चुनरी, हीरो मोती जड़ी गोटेदार चुनरी, कमाल चुनरी, कमाल चुनरी।। झिलमिल सितारों जड़ी, माँ की चुनरिया, लश्कारा मारे माँ के,…

ओढ़ चुनरियाँ लाल बैठी हेै दादी सजधज के भजन लिरिक्स

ओढ़ चुनरियाँ लाल बैठी हेै दादी सजधज के भजन लिरिक्स

ओढ़ चुनरियाँ लाल, बैठी हेै दादी सजधज के, बैठी है दादी सजधज के, बैठी है दादी सजधज के, देखलो दादी को दरबार, बैठी है दादी सजधज के।। बिन्दिया को रंग…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे