आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो राजस्थानी भजन लिरिक्स

आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।

श्लोक – नीवन बड़ी संसार में,
नही निवे सो निस,
निवे नदी रो रुखड़ो,
रेवे नदी रे बीसो बिस,
निवे आम्बा आम्बली,
निवे दाड़म डाल,
अरिंड बिसारा क्या निवे,
ज्यारी ओसी कहिजे आस।



मूल कमल में चार चौकी,

गणपत आसान धरिया।
आसान धर अखंड होये बैठा,
जप जम्पा धरिया ओ।।

साधु भाई बिना भजन कुण तरिया,
आदु आदु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।



पहली रे नीवन मारी मात पिता ने,

उत्पुत पालन करिया।
बीजी रे नीवन मारी धरती माता नी,
जिन पर पगला धरिया ओ।।

साधु भाई बिना भजन कुण तरिया,
आदु आदु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।



तीजी रे निवन मारा गुरुजी नी,

सर पर हतपन धरिया।
चौथी नीवन मारी,
सतरी संगत नी,
जिन में जाए सुधरिया।।

साधु भाई बिना भजन कुण तरिया,
आदु आदु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।



नीवन करु मारा सूर्यदेव नी,

सकल उजाला करिया।
घणो रे नीवन मारा,
अन रे देव नी,
जिन सु ओदर भरिया ओ।।

साधु भाई बिना भजन कुण तरिया,
आदु आदु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।



मैहर हुई मारा गुरुपिरो री,

होई इंद्र नी वरीया।
अमृत बूंदा वर्षण लागी,
मान सरोवर भरिया।।

साधु भाई बिना भजन कुण तरिया,
आदु आदु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।



विना पाल भव सागर भरिया,

घणा डूबा थोड़ा तरिया।
गुरु शरणे माली लखमोजी बोले,
भूल भर्म सब टलिया हो।।

साधु भाई बिना भजन कुण तरिया,
आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो,
साधु संगत वाली करिया,
विना भजन कुन तिरिया।।


भजन गायक – श्री श्याम पालीवाल,
तथा श्रवण सिंह राजपुरोहित द्वारा प्रेषित


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

जय सतगुरु देवा स्वामी जय सतगुरु देवा लिरिक्स

जय सतगुरु देवा स्वामी जय सतगुरु देवा लिरिक्स

जय सतगुरु देवा, स्वामी जय सतगुरु देंवा, लागी लगन मोहे भारी, बख्शो चरण सेवा।। गुरु ब्रम्हा गुरु विष्णु, गुरु शंकर देवा, चार खूँट चौदह भवन में, करूं आपकी सेवा।। श्री…

मैं तो हुवो रे दिवानो थारे नाम रो माता भजन लिरिक्स

मैं तो हुवो रे दिवानो थारे नाम रो माता भजन लिरिक्स

मैं तो हुवो रे दिवानो थारे नाम रो, माँ राती जोगो दिरावु थारे नाम रो, मै तो हुवो रे दिवानों थारे नाम रो, माँ राती जोगो दिरावु थारे नाम रो।।…

सब पे दया लुटाते है दिलदार सांवरे भजन लिरिक्स

सब पे दया लुटाते है दिलदार सांवरे भजन लिरिक्स

सब पे दया लुटाते है, दिलदार सांवरे। दोहा – खाटू नरेश श्री श्याम धणी के, दर पे जो शीश झुकायेगा, शीश के दानी वरदानी से, मन चाहा फल पायेगा। सेठों…

मीरा महला से उतरीया राणाजी पकड्यो हाथ

मीरा महला से उतरीया राणाजी पकड्यो हाथ

मीरा महला से उतरीया, दोहा – मीरा केनो मान ले, छोड़ दिजे अभिमान, तू बेटी राठौड़ की, राज दियो किरतार। मीरा महला से उतरीया, राणाजी पकड्यो हाथ, हाथ मारो छेड…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो राजस्थानी भजन लिरिक्स”

  1. अति सुन्दर भजन।

    जय श्री कृष्ण

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे