प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन शेर पे होके सवार मैया जी मेरे घर आना भजन लिरिक्स

शेर पे होके सवार मैया जी मेरे घर आना भजन लिरिक्स

शेर पे होके सवार,
मैया जी मेरे घर आना,
जग की पालनहार,
दाती माँ मेरे घर आना,
मैया जी मेरे घर आना,
दाती माँ मेरे घर आना,
जग की पालनहार,
मैया जी मेरे घर आना।।



त्रिकुट पर्वत बसी भवानी,

ज्वाला जल रही ज्योति नुरानी,
वहाँ बहती जल की धार,
मैया जी मेरे घर आना,
शेर पे होकें सवार,
मैया जी मेरे घर आना।।



हाथीमत्था कठिन चढ़ाई,

देती सहारा खुद महामाई,
चहुँ ओर मची जय जयकार,
मैया जी मेरे घर आना,
शेर पे होकें सवार,
मैया जी मेरे घर आना।।



लांगुर वीर करे अगवानी,

ठुमक ठुमक फिर चले महारानी,
‘नागर’ की दरकार,
मैया जी मेरे घर आना,
शेर पे होकें सवार,
मैया जी मेरे घर आना।।



शेर पे होके सवार,

मैया जी मेरे घर आना,
जग की पालनहार,
दाती माँ मेरे घर आना,
मैया जी मेरे घर आना,
दाती माँ मेरे घर आना,
जग की पालनहार,
मैया जी मेरे घर आना।।

Singer – Amit Natkhat


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।