हार के मैं आया हूँ तेरे दरबार में भजन लिरिक्स

हार के मैं आया हूँ,
तेरे दरबार में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

तर्ज – छुप गया कोई रे दूर से।



सुना तेरी चौखट पे,

कोई नहीं हारा है,
ये ही सुनकर तो बाबा,
दास तेरा आया है,
लाज मेरी रखना बाबा,
अपने खाटू धाम में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।



आज अपने दिल की बात,

भक्त बताएगा,
भजनो की गंगा से वो,
तुमको रिझाएगा,
आज सुनवाई होगी,
सांचे दरबार में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।



दुनिया में डंके बजते,

बाबा तेरे नाम के,
कुछ तो हक़ीक़त होगी,
तेरे खाटू धाम में,
‘संजीव’ की दुनिया बाबा,
तेरे चरणों धाम में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।



हार के मैं आया हूँ,

तेरे दरबार में,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे,
तेरे ही भरोसे चलती,
भगतों की नाव रे।।

Singer & Writer – Sanjeev Sharma


पिछला भजनमेरी बात रखना जैसे मैं चाहूं वैसे ही मुझको नाथ रखना
अगला भजनखम्मा खम्मा पीरजी रूनीचे रा धणी भजन लिरिक्स

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें