Saturday, August 24, 2019

ओ मेरे लाड़ले गणेश प्यारे प्यारे भोले बाबा जी की आँखों...

ओ मेरे लाड़ले गणेश प्यारे प्यारे श्लोक - विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय, लम्बोदराय सकलाय जगत हिताय, नागाननाय श्रुतियज्ञभूषिताय, गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते।। तर्ज - तेरे होंठों के दो...

झूला झूले हो गजानंद झुलना भजन लिरिक्स

झूला झूले हो गजानंद झुलना, झूले झूले हो गजानंद झुलना।। काहे की डाली पे झूला बंधाये, झूला बंधाये, झूला बंधाये, काहे के लागे पालना, झूले झूले हो गजानंद...

गजानंद तुम्हारे चरणों में एक प्रेम पुजारी आया है भजन लिरिक्स

गजानंद तुम्हारे चरणों में, एक प्रेम पुजारी आया है, तर्ज - दिल लूटने वाले जादूगर अब मेने गजानंद तुम्हारे चरणों में, एक प्रेम पुजारी आया है, एक प्रेम...

रमक झमक कर आवो गजानन भजन लिरिक्स

रमक झमक कर आवो गजानन श्लोक - सदा भवानी दाहिनी, सनमुख रहे गणेश, पांच देव रक्षा करे, ब्रम्हा विष्णु महेश।। रमक झमक कर आवो गजानन, रमक-झमक कर...

ओ गणनायक महाराज सुमिरा जोडू दोनों हाथ भजन लिरिक्स

ओ गणनायक महाराज सुमिरा जोडू दोनों हाथ, >> श्लोक << ॐ एकदंतम सुर्पकर्णम, गजवक्त्रम चतुर्भुजम, पांशकुश धरम देवम ध्यायेत, सिद्धिविनायकम।। ओ गणनायक महाराज, सुमिरा जोडू दोनों हाथ, गजानंद मैहर करो, गजानन मैहर करो।। एकदंत...

गणपति राखो मेरी लाज पूरण कीजो मेरे काज भजन लिरिक्स

गणपति राखो मेरी लाज, श्लोक जय गणेश, गणनाथ दयानिधि, सकल विघन, कर दूर हमारे, मम वंदन स्वीकार करो प्रभु जी, चरण शरण हम , आये तुम्हारी, जय गणेश,...

जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

जय गणेश देवा, जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा, माता जाकी पार्वती पिता महादेवा।। एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी, माथे पर तिलक सोहे मूसे की सवारी, जय गणेश जय गणेश...

रिध्दि सिध्धि के दाता सुनो गणपति भजन लिरिक्स

रिध्दि सिध्धि के दाता सुनो गणपति, तर्ज - हाल क्या है दिलो का ना।  >> श्लोक << सारी चिंता छोड़ दो, चिंतामण के द्वार , बिगड़ी बनायेंगे वही,...

​देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन हिंदी लिरिक्स

​देवा हो देवा गणपति देवा हिंदी लिरिक्स, ​देवा हो देवा, गणपति देवा, तुमसे बढ़कर कौन, स्वामी तुमसे बढ़कर कौन। और तुम्हारे भक्तजनों में, हमसे बढ़कर कौन, हमसे बढ़कर कौन।। अद्भुत रूप...

मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे मेरे दुःख से तुम...

मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे,  मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे।।  मेरे घर में कितने दिन मेहमान रहे,  मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान...

कृष्ण भजन लिरिक्स

फ़िल्मी तर्ज भजन

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।