प्रथम पेज कृष्ण भजन अब आन मिलो मोहन तन्हाई नहीं जाती भजन लिरिक्स

अब आन मिलो मोहन तन्हाई नहीं जाती भजन लिरिक्स

अब आन मिलो मोहन,
तन्हाई नहीं जाती,
अब और कही ठोकर,
प्रभु खाई नही जाती,
अब आन मिलों मोहन,
तन्हाई नहीं जाती।।

तर्ज – एक प्यार नगमा।



इस मर्ज की कौन बता,

मुझे दवा पिलायेगा,
वो जादू भरी ऊँगली,
बालों में फिरायेगा,
जो टिस उठे दिल में,
वो दबाई नही जाती,
अब और कही ठोकर,
प्रभु खाई नही जाती,
अब आन मिलों मोहन,
तन्हाई नहीं जाती।।



मिलने को व्याकुल हूँ,

मिल जाओ मेरे ठाकुर,
तेरे दर्शन को कान्हा,
मेरे नैना है आतुर,
जो याद तेरी आती,
वो भुलाई नही जाती,
अब और कही ठोकर,
प्रभु खाई नही जाती,
अब आन मिलों मोहन,
तन्हाई नहीं जाती।।



कहे ‘हर्ष’ ये दर्द प्रभु,

अब सहन नही होता,
ये बोझ जुदाई का,
अब वहन नही होता,
जो पीड़ जिया में उठे,
वो दिखाई नहीं जाती,
अब और कही ठोकर,
प्रभु खाई नही जाती,
अब आन मिलों मोहन,
तन्हाई नहीं जाती।।



अब आन मिलो मोहन,

तन्हाई नहीं जाती,
अब और कही ठोकर,
प्रभु खाई नही जाती,
अब आन मिलों मोहन,
तन्हाई नहीं जाती।।

गायक – मनीष जी भट्ट।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।