मेरे मन में बस गई रे मैया जी तेरी सुरतिया भजन लिरिक्स

0
2043
बार देखा गया
मेरे मन में बस गई रे मैया जी तेरी सुरतिया भजन लिरिक्स

मेरे मन में बस गई रे,
मैया जी तेरी सुरतिया,
सुरतिया सुरतिया तेरी सुरतिया,
मेरे मन में बस गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया।।



लाल चुनरिया लगती प्यारी,

सुन्दर है मुस्कान तुम्हारी,
मोहे प्यारी लगती है,
भवानी तेरी मूरतिया,
मेरे मन में बस गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया।।



कजरारे तेरे नैना कारे,

मन को लागे प्यारे प्यारे,
मेरी सुधबुध हर ले गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया,
मेरे मन में बस गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया।।



सुन पुकार माँ दौड़ी आवे,

निज भक्तो की लाज बचावे,
मेरो दुख हर ले गई रे,
मैया जी तेरी सुरतिया,
मेरे मन में बस गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया।।



शेर की मैया जी करती सवारी,

हाथ रखे त्रिशूल कटारी,
मोपे जादू सो कर गई रे,
मैया जी तेरी सुरतिया,
मेरे मन में बस गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया।।



मेरे मन में बस गई रे,

मैया जी तेरी सुरतिया,
सुरतिया सुरतिया तेरी सुरतिया,
मेरे मन में बस गई री,
मैया जी तेरी सुरतिया।।

गायक – प. राम अवतार शर्मा।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम