कृपा की ना होती जो आदत तुम्हारी भजन लिरिक्स

कृपा की ना होती जो आदत तुम्हारी भजन लिरिक्स

कृपा की ना होती जो, आदत तुम्हारी, तो सूनी ही रहती, अदालत तुम्हारी।। जो दिनों के दिल में, जगह तुम न पाते, तो …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे