अगर तुम्हारा खाटू में दरबार नहीं होता भजन लिरिक्स

अगर तुम्हारा खाटू में दरबार नहीं होता भजन लिरिक्स

अगर तुम्हारा खाटू में दरबार नहीं होता, तो बेड़ा गरीबो का कभी पार नहीं होता, तो बेड़ा गरीबो का कभी पार नहीं होता।। सारी दुनिया से मैं तो हार गया, रोते रोते तेरे दरबार गया, लगाया गले मुझे सहारा दिया, …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे