ओ गोरे धोरा री धरती रो पिचरंग पाडा री धरती रो लिरिक्स

ओ गोरे धोरा री धरती रो पिचरंग पाडा री धरती रो लिरिक्स

ओ गोरे धोरा री धरती रो, पिचरंग पाडा री धरती रो, पितल पाथल री धरती रो, मीरा कर्मा री धरती रो, कितरो कितरो रे कराँ मैं बखाण, कण कण सूँ गूंजे, जय जय राजस्थान। घर गूंज्या भाई धर्मजला, घर गूंज्या …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे