साँवरिया क्यों हमे इतना सताकर मुस्कुराते हो भजन लिरिक्स

साँवरिया क्यों हमे इतना सताकर मुस्कुराते हो भजन लिरिक्स

साँवरिया क्यों हमे इतना, सताकर मुस्कुराते हो, हमारी जान जाती है, मुरलिया तुम बजाते हो।। तर्ज – ना झटको जुल्फ से। उड़ा दी …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे