खाटू में बैठी जो सरकार है सुनता हूँ दिनों की आधार है लिरिक्स

स्वागतम !