खाटू में जब जब ग्यारस की शुभ रात जगाई जाती है लिरिक्स

स्वागतम !