खाटू के कण कण में बसेरा करता साँवरा भजन लिरिक्स

स्वागतम !