तू क्यों करता फिकर बन्दे श्याम जीवन सजाएगा लिरिक्स

तू क्यों करता फिकर बन्दे श्याम जीवन सजाएगा लिरिक्स

तू क्यों करता फिकर बन्दे, श्याम जीवन सजाएगा, लकीरें हाथों की तेरे, कन्हैया खुद बनाएगा, तू क्यूँ करता फिकर बन्दे, श्याम जीवन सजाएगा।। तर्ज – मुझे तेरी मोहब्बत का। ये दुनिया है बड़ी ज़ालिम, रुलाती है रुलाएगी, चंद सिक्को के …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे