काम कोई भी कर नहीं पाया घूम लिया संसार में भजन लिरिक्स

काम कोई भी कर नहीं पाया घूम लिया संसार में भजन लिरिक्स

काम कोई भी कर नहीं पाया, घूम लिया संसार में, आखिर मेरा काम हुआ, बाबा के दरबार में।। क्या कहना दरबार का, ये सच्चा दरबार है, शीश झुकाकर देख जरा, फिर तो बेड़ा पार है, तेरा संकट दूर करेगा, बाबा …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे