मैं तो पत्थर उठा नहीं पाई के बालू ले आई भजन लिरिक्स

मैं तो पत्थर उठा नहीं पाई के बालू ले आई भजन लिरिक्स

मैं तो पत्थर उठा नहीं पाई, के बालू ले आई।। दोहा – एक गिलहरी बार बार, सागर में पूंछ भिगावे, पूंछ भिगावे रेत लपेटे, पुल पे आन गिरावे। बड़े नुकीले पत्थर प्रभु तेरे, पाँव में ना चुभ जावे, बालू आपकी …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे