​तोरा मन दर्पण कहलाए हिंदी भजन लिरिक्स

​तोरा मन दर्पण कहलाए हिंदी भजन लिरिक्स

​तोरा मन दर्पण कहलाए, भले, बुरे, सारे कर्मों को, देखे और दिखाए।। मन ही देवता, मन ही ईश्वर, मन से बड़ा ना कोई, मन उजियारा, जब जब फैले, जग उजियारा होए, इस उजले दर्पन पर प्राणी, धूल ना ज़मने पाए, …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे