मैं हूँ शरण में तेरी संसार के रचैया भजन लिरिक्स

मैं हूँ शरण में तेरी संसार के रचैया भजन लिरिक्स

मैं हूँ शरण में तेरी संसार के रचैया, कश्ती मेरी लगा दो उसपार ओ कन्हैया।। तर्ज – मैं ढूढ़ता हूँ जिनको। मेरी अरदास सुन लीजे, प्रभु सुध आन कर लीजे, दरश इक बार तो दीजे, मैं समझूंगा श्याम रीझे, पतवार …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे