थारी मुरली में मेरो मन लागो कान्हा भजन लिरिक्स

थारी मुरली में मेरो मन लागो कान्हा भजन लिरिक्स

थारी मुरली में, मेरो मन लागो कान्हा। दोहा – मुरली वाले सावरा, थारी मुरली नैक बजाव, इण मुरली म्हारो मन बसियो, कान्हा एकर और बजाव। ओ थारी मुरली में, ओ इण मुरली में, मेरो मन लागो कान्हा, फेर तो बजा …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे