पनघट से दौड़ी चली आउंगी कान्हा मुरली बजा दो लिरिक्स

पनघट से दौड़ी चली आउंगी कान्हा मुरली बजा दो लिरिक्स

पनघट से दौड़ी चली आउंगी, कान्हा मुरली बजा दो, मधुबन में रास रचाऊंगी, कान्हा मुरली बजा दो।। श्याम सुंदर से लागे नैना, तुम …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे