लो संभालो भोले अपनी कांवर लूट गई में अभागन यहाँ पे लिरिक्स

लो संभालो भोले अपनी कांवर लूट गई में अभागन यहाँ पे लिरिक्स

लो संभालो भोले अपनी कांवर, लूट गई में अभागन यहाँ पे। सुनिये सुना रहा हूँ एक दास्तान है, सावन का महीना बड़ा पावन …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे