काच्छबो ने काच्छबी रेता रे जल में लेता हरी रो नाम

काच्छबो ने काच्छबी रेता रे जल में लेता हरी रो नाम

काच्छबो ने काच्छबी रेता रे जल में, लेता हरी रो नाम, भगती रे कारण बाहर आया, भगती रे कारण बाहर आया, किना संतो ने प्रणाम, किना संतो ने प्रणाम, संतो रे चरने पडीया जी, झटके झोली में धरीया जी, कलप …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे