जोगन बनी रे मैं सांवरे की भजन लिरिक्स

जोगन बनी रे मैं सांवरे की भजन लिरिक्स

जोगन बनी रे मैं सांवरे की, साँची लगन मन बावरे की।। गिरधर मेरे मन में समाए, और ना कुछ भी मोहे भावे, मन में प्रीत जगी सांवरे की, एक रटन मन बावरे की, जोगन बनीं रें मैं सांवरे की, साँची …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे