गोपाल मेरी नैया क्यो डगमगा रही है भजन लिरिक्स

गोपाल मेरी नैया क्यो डगमगा रही है भजन लिरिक्स

गोपाल मेरी नैया, क्यो डगमगा रही है, आजा रे अब तो आजा, आजा रे अब तो आजा, तेरी याद आ रही है।। तर्ज – तुझे भूलना तो चाहा। तूफ़ाँ से लड़ते लड़ते, कहीँ डूब ही न जाये, विश्वास श्याम मेरा, …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे