गोकुल का कृष्ण कन्हैया सारे जग से निराला है भजन लिरिक्स

गोकुल का कृष्ण कन्हैया सारे जग से निराला है भजन लिरिक्स

गोकुल का कृष्ण कन्हैया, सारे जग से निराला है, सांवली सुरतीया है, और मोर मुकुट वाला है, गोकुल का कृष्ण कन्हैंया, सारे जग से निराला है।। तर्ज – तुम तो ठहरे परदेसी। भोले भाले मुखडे की, बात ही निराली है, …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे