गिरतों को जिसने संभाला ऐसा है अंजनी लाला भजन लिरिक्स

गिरतों को जिसने संभाला ऐसा है अंजनी लाला भजन लिरिक्स

गिरतों को जिसने संभाला, ऐसा है अंजनी लाला, पवनसुत बालाजी, पवनसुत बालाजी, सच्चा है दरबार मेरे बालाजी का, मिलता है प्यार मेरे बालाजी का।। तर्ज – झूठी दुनिया से मन को। कामखेड़ा में जो भी, आशा लेके आते हैं उन …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे