गिरते हुए को श्याम धणी क्या अपने गले लगाओगे

गिरते हुए को श्याम धणी क्या अपने गले लगाओगे

गिरते हुए को श्याम धणी क्या, अपने गले लगाओगे, कोई नहीं जो मुझे थाम ले, क्या तुम हाथ बढ़ाओगे, गिरते हूए को श्याम धणी क्या, अपने गले लगाओगे।। तर्ज – कसमें वादे प्यार वफ़ा। है खुदगर्जी मेरी बाबा, विपदा पड़ी …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे