​साँसों की माला पे सिमरूं मैं सांई राम भजन लिरिक्स

​साँसों की माला पे सिमरूं मैं सांई राम

​साँसों की माला पे सिमरूं मैं सांई राम श्लोक – सांस आती है सांस जाती है, सिर्फ मुझको है इंतजार तेरा, आंसुओ की घटाए पी पी के, अब तो कहता है यही प्यार मेरा।। ​साँसों की माला पे सिमरूं मैं सांई …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे