घनश्याम तुझे ढूँढने जाए कहाँ कहाँ भजन लिरिक्स

घनश्याम तुझे ढूँढने जाए कहाँ कहाँ भजन लिरिक्स

घनश्याम तुझे ढूँढने, जाए कहाँ कहाँ, अपने विरह की आग, अपने विरह की आग, बुझाए कहाँ कहाँ, घनश्याम तुम्हे ढूँढने, जाए कहाँ कहाँ।। तेरी नजर में जुल्फ में, मुस्कान जो मधुर, उलझा है सब में दिल तो, उलझा है सब …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे