घड़ी रे पलक नहीं आवडे तुम दर्शन बिन मोय भजन लिरिक्स

घड़ी रे पलक नहीं आवडे तुम दर्शन बिन मोय भजन लिरिक्स

घड़ी रे पलक नहीं आवडे, तुम दर्शन बिन मोय। दोहा – कान्हा थे भले आवजो, शरद पुनम री रेण, बिन घडी नहीं आवडे, मारा बिलखा लागे नेन। घड़ी रे पलक नहीं आवडे, तुम दर्शन बिन मोय, रे सावरिया मारा, तुम …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे