गौरी तनय गणपति को दो फूल चढ़ाते हैं भजन लिरिक्स

गौरी तनय गणपति को दो फूल चढ़ाते हैं भजन लिरिक्स

गौरी तनय गणपति को, दो फूल चढ़ाते हैं, सब काम सिद्ध कर दो, ये अर्ज सुनाते हैं, गौरी तनय गनपति को, दो फूल चढ़ाते हैं।। तर्ज – शिवनाथ तेरी महिमा। जहाँ जय गणेश गूंजे, सब विघ्न दूर होते, कृपा के …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे