आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो राजस्थानी भजन लिरिक्स

आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो राजस्थानी भजन लिरिक्स

आधु आधु पंथ निवन पथ मोटो, साधु संगत वाली करिया, विना भजन कुन तिरिया।। श्लोक – नीवन बड़ी संसार में, नही निवे सो निस, निवे नदी रो रुखड़ो, रेवे नदी रे बीसो बिस, निवे आम्बा आम्बली, निवे दाड़म डाल, अरिंड …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे