जद अजमल जी होता बाजिया तब मालिक थारो भजन कियो

स्वागतम !