जंगल विच भैरुनाथ थारो कुण कर गयो श्रृंगार लिरिक्स

जंगल विच भैरुनाथ थारो कुण कर गयो श्रृंगार लिरिक्स

जंगल विच भैरुनाथ, थारो कुण कर गयो श्रृंगार, कुण थारे काजल लगायो, कूण लायो प्रसाद, थारे माली पाना चम-चम चमके, थारी जय हो …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे