छोड़ दे मनवा मन मस्ती सोंह शिखर गढ है बस्ती

छोड़ दे मनवा मन मस्ती सोंह शिखर गढ है बस्ती

छोड़ दे मनवा मन मस्ती, सोंह शिखर गढ है बस्ती।। इंगला पिंगळा अर्धंग नारी, चांद सूरज घर रह लगती, गंगा जमना बहे सरस्वती, …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे