वाह रे वाह रे साँवरिया थारी लीला समझ ना आवे लिरिक्स

वाह रे वाह रे साँवरिया थारी लीला समझ ना आवे लिरिक्स

वाह रे वाह रे साँवरिया, थारी लीला समझ ना आवे, छोड़ के छप्पन भोग खीचड़ो, छोड़ के छप्पन भोग खीचड़ो, कर्मा के घर …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे