चुनरी ओढाऊ तनै लाख की राणीसती भजन लिरिक्स

चुनरी ओढाऊ तनै लाख की राणीसती भजन लिरिक्स

गर जोर मेरो चालै, चुनरी ओढाऊ तनै लाख की, के करा पर दादी कोन्या, बात या मेरे हाथ की।। रतन जड़ित सिंहासन बैठा, …

पूरा भजन देखें

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे