आज सखी म्हारे रंग रली है राजस्थानी गुरु वंदना लिरिक्स

स्वागतम !