ऐ श्याम तेरी बंसी की कसम हम तुमसे मोहोब्बत कर बैठे

ऐ श्याम तेरी बंसी की कसम हम तुमसे मोहोब्बत कर बैठे, 

इस दिल के सिवा कुछ और न था, यह दिल भी तुम्हारा कर बैठे ॥


हम रंग गए तेरे रंग में, ओ सावरे सुन ले अरज मेरी, 

कुछ खोया भी कुछ पाया भी, तेरी प्रीत से झोली भर बैठे ॥


पलकों में छिपा कर श्याम तुझे तन मन कुर्बान किये बैठे हैं, 

पकड़ा जब तेरे दामन को, जीने का सहारा कर बैठे ॥


मगरूर हुआ क्यूँ कर लेकिन, जरा सामने आ सूरत तो दिखा, 

कमजोर है दिल दीवाने का, श्याम इतना किनारा कर बैठे ॥


तस्वीर को तेरी जब देखा, मदहोश हुआ बेहोश हुआ, 

देखा जब तेरी सूरत को सजदे में झुकाए सर बैठे ॥

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें