तेरे द्वार खड़ा भगवान भगत भर दे रे झोली भजन लिरिक्स

तेरे द्वार खड़ा भगवान भगत भर दे रे झोली भजन लिरिक्स
प्रदीप के भजनविविध भजन

तेरे द्वार खड़ा भगवान हो,
तेरे द्वार खड़ा भगवान,
भगत भर दे रे झोली।।



तेरा होगा बड़ा एहसान, 

कि जुग जुग तेरी रहेगी शान, 
भगत भर दे रे झोली, 
तेरे द्वारे खड़ा भगवान, 
भगत भर दे रे झोली, 
ओ भगत भर दे रे झोली।।


 

डोल उठी है सारी धरती देख रे,
डोला गगन है सारा,
भीख मांगने आया तेरे घर,
जगत का पालनहारा रे,
जगत का पालनहारा,
मै आज तेरा मेहमान,
कर ले रे मुझसे ज़रा पहचान
भगत भर दे रे झोली, 
तेरे द्वारे खड़ा भगवान, 
भगत भर दे रे झोली, 
ओ भगत भर दे रे झोली।।



आज लुटा दे रे सर्वस्व अपना,

मान ले कहना मेरा,
मिट जायेगा पल मे तेरा,
जनम-जनम का फेरा रे,
जनम-जनम का फेरा,
तू छोड़ सकल अभिमान,
अमर कर ले रे तू अपना दान,
भगत भर दे रे झोली,
तेरे द्वार खड़ा भगवान,
भगत भर दे रे झोली।।



तेरे द्वार खड़ा भगवान हो,

तेरे द्वारे खड़ा भगवान,
भगत भर दे रे झोली।।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।