तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है भजन लिरिक्स

2
16034
बार देखा गया
तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है भजन लिरिक्स

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है,
तर्ज-जाने क्यू लोग मौहब्बत किया करते है
श्लोक
तेरी छाया मे,तेरे चरणों मे,

मगन हो बेठु,तेरे भक्तो मे॥॥

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है,
जिंदगी मिलती है रौतौ को हँसी मिलती है॥॥



इक अजब सी मस्ती तन मन पे छाती है,

हर इक जुबां तेरे ओ मैया गीत गाती है,
बजते सितारों से मीठी पुकारो से,
गूंजे जहाँ सारा तेरे ऊँचे जयकारो से,
मस्ती मे झूमे तेरा दर चूमे,
तेरे चारो तरफ़ दुनिया ये घुमे,
ऐसी मस्ती भी भला क्या कही मिलती है,
तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है॥॥



मेरी शेरों वाली माँ तेरी हर बात अच्छी है,

करनी की पूरी है माता मेरी सच्ची है,
सुख दुख बँटाती है अपना बनाती है,
मुश्किल मे बच्चे को माँ ही काम आती है,
रक्छा करती है भक्त अपने की,
बात सच्ची करती उनके सपनो की,
सारी दुनिया की दौलत यही मिलती है,
तेरे दर बार मे मैया खुशी मिलती है॥॥



रोता हुआ आये जो हँसता हुआ जाता है,

मन की मुरादो को वो पाता हुआ जाता है,
किस्मत के मारो को रोगी बीमारों को,
करदे भला चंगा मेरी माँ अपने दुलारौ को,
पाप कट जाये चरण छूने से,
महकती है दुनिया माँ धुने से,
फ़िर तो माँ ऐसी कभी क्या कही मिलती है,
तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है॥॥

2 टिप्पणी

  1. बहुत अच्छा लगा आपका ये भजन का lyrics उम्मीद करते हैं कि इसी तरह और अच्छे अच्छे भजन का lyrics लिखते रहिएगा धन्यवाद!

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम