शिव नाम के सहारे पापी भी मुक्ति पाए भजन लिरिक्स

1
2464
बार देखा गया
शिव नाम के सहारे पापी भी मुक्ति पाए भजन लिरिक्स

शिव नाम के सहारे,
पापी भी मुक्ति पाए,
भजले नमः शिवाय,
जपले नमः शिवाय,
भजले नमः शिवाय,
शिव नाम के सहारे।।



तंत्रो का तंत्र है ये

मंत्रो का मंत्र है ये,
ब्रम्हांड जानता है,
यंत्रो का यन्त्र है ये,
धरती ने इसको गाया,
आकाश गुनगुनाये,
भजले नमः शिवाय,
जपले नमः शिवाय,
भजले नमः शिवाय,
शिव नाम के सहारे।।



लंका विजय से पहले,

श्री राम ने रटा है,
शिव नाम जब जपा है,
रावण का सर कटा है,
भोले की बस दया से,
लंका को जीत पाए,
भजले नमः शिवाय,
जपले नमः शिवाय,
भजले नमः शिवाय,
शिव नाम के सहारे।।



ऐसा कवच ना दूजा,

करले जो इसको धारण,
उसके दुखो का होता,
पल भर में ही निवारण,
इन पांच अक्षरों में,
संसार है समाए,
भजले नमः शिवाय,
जपले नमः शिवाय,
भजले नमः शिवाय,
शिव नाम के सहारे।।



सांसो की लय पे ‘लख्खा’,

इस मंत्र को तू गाले,
रेखाए जो बुरी हैं,
किस्मत की सब मिटा ले,
ऐ बेधड़क जो भटके,
मंजिल वो अपनी पाए,
भजले नमः शिवाय,
जपले नमः शिवाय,
भजले नमः शिवाय,
शिव नाम के सहारे।।



शिव नाम के सहारे,

पापी भी मुक्ति पाए,
भजले नमः शिवाय,
जपले नमः शिवाय,
भजले नमः शिवाय,
शिव नाम के सहारे।।


1 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम