शीश जटा में गंग विराजे गले में विषधर काले भजन लिरिक्स

शीश जटा में गंग विराजे गले में विषधर काले भजन लिरिक्स
मनीष तिवारी भजनशिवजी भजन
....इस भजन को शेयर करें....

शीश जटा में गंग विराजे,
श्लोक – ॐ नाम एक सार है,
जासे मिटत कलेश,

ॐ नाम में छिपे हुए है,
ब्रम्हा विष्णु महेश।।

शीश जटा में गंग विराजे,
गले में विषधर काले,

डमरू वाले ओ डमरू वाले।।



तुमने लाखो की बिगड़ी बनाई,

अपने अंग भभूत रमाई,
जो भी तेरा ध्यान लगाए,
उसको सब दे डाले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।



नित अंग पे भस्मी लगाए,

जाने किसका तू ध्यान लगाए,
रहता है अलमस्त ध्यान में,
पीकर भंग के प्याले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।



सब देवो ने अमृत पाया,

तुम्हे जहर हलाहल भाया,
महल अटारी सबको बांटे,
तुम हो मरघट वाले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।



भोले
सुनलो अरज हमारी,

हम आये शरण तुम्हारी,
सब देवो में देव बड़े हो,
दुनिया के रखवाले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।


https://youtu.be/JNwrOHDgLig


....इस भजन को शेयर करें....

2 thoughts on “शीश जटा में गंग विराजे गले में विषधर काले भजन लिरिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।